योगाभ्यास कभी व्यर्थ नहीं जाता | असफल योगी की गति !!! (BG 6.43) - ब्रजभूमि प्रभुजी